RSS

कुछ कहना है

दुआओं का तु बन जा सावन

हर रुह को तू कर दे पावन

दुआओ की जो जाने कला

सुखसावन वो सदा ही भला

Advertisements
 

Comments are closed.