RSS

Category Archives: वहशी दरिंदे

(बिछड़े) कभी न आन मिले!

बरसी मनाके हम तो भूल जायेंगे।

खोने वाले कभी क्या भूल पायेंगे ?

इम्तिहान ऐ जिंदगी जब आजमायेंगे।

कैसे देश गीत ये, कैसे देश प्रीत ये ?

विरासत -सियासत मे , ये पनपायेंगे ?

टूट टूट जायेंगे, ये घुट घुट जायेंगे।

स्मारक -समाधि पे शायद ये आ जायेंगे।

घुटन व टुटन से कैसे रिहाई ये पायेंगे ?

बिछड़े कभी भी नाही आन मिले ।

तिरंगे में लिपटी जब रिश्ते ऐ जान मिले।

इक बार मातमी धुन, सलामी ऐ शान मिले।

हमदर्दी तमग़ा, कभी कुछ कुछ अनुदान मिले

ताउमर उससे कैसे उनका ख़ानदान चले ???

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , ,

अपनों के तीर

अपनों के तीर

अपने जब दरद देते इन्तेहा
पराये तब ये कहते हंसके हम पे
बेहद नाज करते थे तुम जिन पे


आज वही जुबां खामोश रुह घायल
मन का भिगो गये कोना – कोना ।

अश्क छुपाले और छुपाले रोना

किसको दिखायेगा दरद को ढोना ?

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

तम्बाकू इक डाकू

 

Tags:

Status

बस कर जमाने ! बस

दर्द बांटने को आतुर … ….

ऐ ज़ालिम जमी ज़माने !

खुशी बांटी होती जो थोड़ी भी

तो कुछ ओर ही आलम होता ।

जमीं ही बन जाती जंहा ऐ जन्नत

खुदा भी थोड़ा बेफिक्र होता

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

अभिनंदन का अभिनंदन

अभिनंदन का अभिनंदन

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Quote

Josh Versus Jaish

जोश की उड़ी उड़ान ।

जय हिंद !जय जवान!

जोश ! तो अभी बाकी है।

ये तो बस इक झांकी है ।

ऐ तिरंगे ! हम तेरे साकी हैं।

कसमे ऐ वतन खाती खाकी है ।

रुह ऐ जिस्म भारत मां की है ।

जोशे ऐ वतन

 

Tags: , , , , , ,

Video from Rajnivijaysingla on pulwama Martyrs

Video from Rajnivijaysingla on pulwama Martyrs

JAI HIND….. 🙏🏻

 

Tags: , , , , , , , , , ,

Image

कभी याद हमे भी करना # पुलवामा

कभी याद हमे भी करना # पुलवामा

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Status

Cry for life

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

तलाश में

तलाश में

 
Image

काश ! भूख न होती

पापी पेट के लिए करता हूं
आज का तो हुआ इंतजाम
कल के लिए हरदम डरता हुं
तपते तन, सहमे डरे मन से
नागा कभी कभी करता हुं
भुख से करनी पड़ती मुलाकात
जाडे़ में जब -जब ठिठुरता हुं
https://hindipoetryworld.wordpress.com/2018/05/01/%e0%a4%ae%e0%a4%9c%e0%a4%a6%e0%a5%82%e0%a4%b0-%e0%a4%b9%e0%a5%82%e0%a4%82-%e0%a4%ae%e0%a4%9c%e0%a4%ac%e0%a5%82%e0%a4%b0-%e0%a4%a8%e0%a4%b9%e0%a5%80/

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Chat

#me too as old as woman

#me too as old as woman

#|mee too issue तो है सदियो पुराना
पहले छूपा लेते थे इज्जत बचाने की खातिर
अब न रहा रावण – महिषासुरो का ज़माना
जो बन दिखाती है महाकाली रूपा शक्ति
देता ज़माना उसे नमन् ,सलामी और भक्ति

 

Tags:

Image

( mee too ) sunami

http://Jeevan

कभी संत छेडे़ कभी महंत

कभी नेता कभी अभिनेता

न शोहरत का कोई ख्याल

न किये का कोई मलाल

उनसे तो लाख अच्छे

कोठों के वो दलाल

संस्कारो से कोसो दूर

वासना मे जलते पुतले

महिषासुर से बदतर आसुर

नारी तूझको जागना होगा

दरिंदो को सुलाने की खातिर

बन शाश्वत महाकाली चंडी

सरेआम लगा दो फांसी बंदी

नारी तू ही है नारायणी

नारीत़्व को नमन व झंडी

कत्ल कर दो मानसिकता गंदी

 
 
%d bloggers like this: