RSS

Category Archives: poetry

Chat

भाभी मां मानो तो

मायके की तो बात निराली।
बेटियां होताी हैैं खुशहाली।
लेते ही सर सुहाग चुनरिया।
पराई हो जाती बाबुल अटरिया।
माना मायका मां संग भाता।
भाई-  भाभी भी मीठा नाता।
आदर देने से अटूट बन जाता।
पर मां बाप ताउमर न रहते।
भाई – भाभी ही तब साथ देते।
बेटियां रानी अपने राजा की।
भाभी मायके का नूर होती ।
भाई की वो हूर – गरुर होती।
पहल कर दो सदाये – दुआए ।
जरुरत बाद में  है जरुर होती।
जरुरत पड़े पर जो ननद बोले।
कड़वाहट रिश्तों में वो घोले।
मतलबी  फितरत की उमर छोटी ।
प्यार  उड़ा दे  वो हौले – हौले।
शुरु से रिश्ता  को मधुर बनाये ।
  दुआए देकर  ही  आती दुआए ।

 

Tags: , , , , , , , , , ,

Quote

जब तन में तकलीफ ,मन में डर समाने लगे ।
वास्तु- ज्योतिष ,दबे पांव घर मेरे में आने लगे ।
देख के टेवा उपाय कई तरह के समझाने लगे ।
दिशाहीन ? दिशाओं के मायने  समझाने लगे ।
हम भी झांसे में  रज्ज- रज्ज के आने लगे  ।
रब मान बैठे उन्हें , रब को हम भूलाने लगे ।
हिसाब से उनके ही खुद को चलाने लगे ।
नाही तन न मन मिला,बहाने वो बनाने लगे।
पैसा फूंक के भी जब हाथ न आया कुछ ।
रब से ऊंचे माने बैठे जिन्हे लगने लगे तुच्छ ।
न सुख में शुकराना दरद वेले अरदास कीती ।तांही रब ने बन पारखी, सच्चाई समझा दीती ।
परमात्म परमज्योतिष !गल्ल पल्ले पा दीती  ।

परमात्म ही परम ज्योतिष

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Chat

सूरत पे सीरत भारी

सूरत होती क्या ? जमाना जिसपे फिदा
चार दिन की चांदनी ,चार दिन की  माया
दीवानी  है दुनिया , सब को है भरमाया
सीरत को भूला जग , सूरत पे है ललचाया
न थी सूरत वैसी ,जमाना दे दाद, उस जैसी
अकसर मिलने लगे खंजर से ताने
सूरत बदलना न था हाथ में अपने
दिखा दिये रुह को सीरत के सपने
सीरत का सपना ही कर लिया साकार
मिल रहा उसी रोज से ऐ ! जमाने तेरा प्यार
तभी तो कहता है अपुन का दिल बारम्बार
सूरत न बस में तो सीरत ही बदल लो यार

 

Tags: , , , , , , , , , , ,

Chat

वो बचपन प्यारा

आजकल कपड़े के थेलै में साग सब्जी व कागज के लिफाफे में समोसे – जलेबी पाकर बचपन फिर  से  लौट आया ।
Welcome Ecofriendly !
Polybags free, Jalandhar

 

Tags: , , , , , , , ,

Chat

बेजुबान हुं पर गुमराह नही

मेरी चुप्पी मेरी कमजोरी नही ।
मैं तो वक्त को तवज्जो देता हूं ।
दरद जमाने तेरे सारे मैं सहता हूं ।
कुछ कहना गर बस उसे कहता हूं ।
जो फैसले वक्त ही तय करता है ।
जाने बंदा उसमे क्यूं अड़ता है ?
मेरी खामोशी की वजह क्या है ?
क्योंकि जाने वो ही, रज़ा क्या है ?
बंदे की औकात कंहा न्याय सुनाने की ।
नेकी – बदी पर मुहरें अपनी लगाने की ।
कथनी-करनी के फल, रब के हाथ सारे ।
कल आज व कल , वो ! बिगाड़े या संवारे ।
नैया थमा दो उसको ,वो ही तारे वो उबारे ।
क्युं बदजुबानी ? जब वक्त जवाब दे सारे

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

मां तो इक दुआ है ।

मां का दिल होता मोम सा । आंचल होता आसमान सा । सूरत होती इक फरिश्ते सी । मुकाम बिल्कुल भगवान सा ।…

Source: मां तो इक दुआ है ।

 
Leave a comment

Posted by on May 9, 2016 in poetry

 
Image

भारतीय कला लाजवाब है | Hindi Poetry World

https://hindipoetryworld.wordpress.com/2015/11/07/%e0%a4%ad%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a4%a4%e0%a5%80%e0%a4%af-%e0%a4%95%e0%a4%b2%e0%a4%be-%e0%a4%95%e0%a4%a

image

e%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%b9%e0%a5%88/

 

Tags: , , , , ,

 
Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 369 other followers

%d bloggers like this: