RSS

Category Archives: poetry

उडारी पिआरी बाबुला ( Father’s Day )

कुख चे न मारी बाबुला
वीरे वांगू पल लैन दे
जमाने दी न सूनी इक वी
वेहड़े़  निकी नू चल लैन दे
मैं न फड़नी  खूरपी डंगर चिमटा
किताबां मैंनू पढ़ लैन दे
उडारी पिआरी मंगे धी कुवांरी
आकाश  मैंनू फड़ लैन दे
वीरे  लई   तू बनिआ घोड़ा
धी रानी नू वी चढ़ लैन दे

 

Posted from WordPress for Android

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

बिटिया हुई पराई

बिदाई की घड़ी है आई
छुटी सखी सहेलियां ,गुडि़या पटोले
छुटी बचपन जवानी ,गलियां के टोले
इक रात मे बिटिया हुई पराई
मैया कैसे सबर करे ?
कालजे पे पत्थर कैसे धरे ?
कैसे रोके वो रुलाई ?
बाबुल रोये चुपके- चुपके
पोछें आंसू सबसे छुपके
सखियों थामे बाबुल-माई
हाए ! बेटियां हुई पराई
मासूमियत से नाता टूटा
नैहर अपना, अंगना छूटा
पराये के हाथ थमाई
ख़ुश रहना मां की जाई
रोये बाबुल सखी माई
हाए ! बिदाई बड़ी दुखदाई
दुआए ले जा अपनों की पराई

Posted from WordPress for Android

 

Tags: , , , , , ,

योग तराना + पावन अफसाना

योग मुबारक  योग दिवस पर
योग की महिमा गाये ज़माना
गरुर हमारा  पावन प्यारा
भारतीय परम्परा, निरोगी सितारा
मन तन विश्व का इसने संवारा
मन तन रजनी ने योग पे वारा
योग शरण में जो भी आया
खुद ब खुद ओम में समाया
विश्व बंधुत्व का भाव जगाया
योग मुबारक योगी साया

Posted from WordPress for Android

 

Tags: ,

योग है सुख संयोग

योग हमारी पुरातन परम्परा
पावन परम सहयोग
तन मन करे निरोग
खुद से मिलाये खुद को
आत्म+परमात्म  जोग
विकार छुड़ाये  त्यागे भोग

Posted from WordPress for Android

 
Leave a comment

Posted by on June 12, 2015 in poetry

 

पांव जमीं पर ही जमते

पांव जमीं पर टिकते जिनके
छूते वही आसमां को
बुलंदियो पे पहुंच कर भी
भूले न कच्चे मकान को
लंगोटिया यार, रिश्तेदार,पाठशाला
पुराने बंधन,भूले न संस्कार को
सादा खाना  सादा पाना
थामे ताउमऱ शोहरते कमान को
करम बंदगी -सादी जिंदगी़
सीख दे जाते जहान को
सलाम देती कलम रजनी की
ऐस बुलंदी  शोहरत की पहचान को

Posted from WordPress for Android

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , ,

तुझसे ही जिद सीखी

image

काटने वाले ने तो कसर न छोड़ी
पर मैं भी कम जिदी नही
जिद मुझे थी खिलने की
आसमां से मिलने की
मिटना न चाहे कोई गर
मिटाने वाला जाता है डर
ऐ मिटाने वाले ले दुआए
तू भी मेरी तरह फले फूले
दरद पाकर भी तुझसे क्यूं ?
दिल दे रहा दुआ दिलजले
कुदरत भी देगी साथ कब तक ?
कब बन जाये दरदे – अश्क जलजले ?
संभल सकता है तो संभल जा नादां
हो गई बहरी कुदरत गर पगले
दब के रह जायेंगे तेरे शिकवे – गिले

Posted from WordPress for Android

 

Tags:

Chotti se asha

rajnivijaysingla:

धरती मां का करज उतारो
कुदरत की रोज़ आरती उतारो

Originally posted on Hindi Poetry World:

It is very heart touching poem, a ray of hope.

traImage

View original

 
Leave a comment

Posted by on June 4, 2015 in poetry

 
 
Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 398 other followers

%d bloggers like this: