RSS

Category Archives: Sports

योग कराये रुहानी संयोग

योग कराये रुहानी संयोग

युगों युगों से भी है योग पुराना ।
उमर, मज़हब ,सरहद से अनजाना
मन तन गाते एक ही तराना।
संत ऋषि तो ही योगश्वर कहलाते ।
योग के बल से परमात्म को पाते ।
योग दिवस ! बंधु आओ रोज़- रोज मनाये ।
International Yoga Day भारतीय अध्याय ।
तन को मन से, स्वास्थ्य जैसे धान्य-धन से ।
खुद को खुदा से, मालिक ऐ मन से योग जुड़ाये।

 

Tags: , , , , , , , , ,

Cricke craze patriotic ways

 

Tags: ,

Quote

Josh Versus Jaish

जोश की उड़ी उड़ान ।

जय हिंद !जय जवान!

जोश ! तो अभी बाकी है।

ये तो बस इक झांकी है ।

ऐ तिरंगे ! हम तेरे साकी हैं।

कसमे ऐ वतन खाती खाकी है ।

रुह ऐ जिस्म भारत मां की है ।

जोशे ऐ वतन

 

Tags: , , , , , ,

मुबारक मुबारक मुबारक

मुबारक !मुबारक! मुबारक!मुबारक ।
भक्त को भगवान का दुलार मुबारक ।
भूखे को रोटी,  अधनंगे को कपड़ा
प्यासे को पानी की धार मुबारक ।
खेतों को बरखा की बहार मुबारक ।
दिल को प्यार का इज़हार मुबारक । 
सरहदों को अमन ऐ एतबार मुबारक ।
राही को मंजिल की पुकार मुबारक ।
योद्धा को धनुष – तलवार मुबारक ।
जंगलो को हरियल सा हार मुबारक ।
मुसाफिर को पेड़ की छांव मुबारक । 
भारत को स्वच्छता का पैगाम मुबारक ।
किसान को अनाज का दाम मुबारक ।
पंछी को अपना दाना-पानी मुबारक ।
बचपन को नानी की कहानी मुबारक ।
मरते को स्वस्थ जिंदगानी मुबारक ।
सुबह के भूले को  है शाम मुबारक ।
आंचल मे बेटी,  हर अंगना में पौधे ,
मां भारती को ऐसी शान मुबारक ।

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

पानी है तो जिंदगानी है

पानी बना नही सकता , बचा तो सकता है
जाया करने वालो को समझा तो सकता है
लातुर नही बनना,प्यास का एहसास भयंकर
बिन पानी सब सूना, नींद से जगा तो सकता है
पानी की करो निगरानी, तभी वजूद जिंदगानी वरना मिट जायेगा नामोनिशां ,हमारी कहानी
पानी संग कल है, वरना सब उन्नति विफल है

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

मीठा अहसास

मीठा अहसास मीठे अश्क लाता है
हो भीगी पलके ,तब भी मन गाता है
लगे सब अपने, नये सपने जगाता है
जीते जी जन्नते ए नजारा महकाता है
  खूब मुस्काने बांटने को जी चाहता है

 

Tags:

दरद से निजात

खुदा ही केवल दरद से निजात दे सकता है
दुआए ,दरद को काफी हद कम कर सकती है
खुदा की बंदगी,, बंदे को हौंसले दे सकती है खुदा के इंसाफ में बस विश्वास बनाये रखे
दरद रफ्ता-रफ्ता रफूचक्कर हो ही जायेगा
खुदा के बेहद करीब ले जायेगा तोहे बंदे
खुद ब खुद छुट जायेगे माड़े सब धंधे

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

चलना जरुरी

चलेगें हम जितना ज्यादा
होगा उतना हमको फायदा
न छूयेगी पायेगी बीमारी हमको
न ही तन की लाचारी हमको
कर लो खुद से पक्का वायदा
अटूट संकल्प, अचल इरादा

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

वो बचपन की बातें

वो मीठी सी यादे
वो शहद से दिन
वो शीतल सी राते
दस पैसै की संतरे की गोली
चूसते थे ले चटकारे हौली हौली
बरगद के पत्ते पे चाट चने की
इमली चटपटी आठ आने की
गन्ने की गंडेरिया, मस्ती की ढेरियां
कभी गेंद गीटे ,स्टापू की फेरियां
अम्बयिो का झोला, चुराता था टोला
मिला रस न वैसा ,ढूंढा चारो चुफेरा
जवानी -बूढ़ापा छाना, सारा टटोला
बचपन की तो यारो ! बात अलग थी
मासूम सफर था, कुछ शान अलग थी

Rajni Vijay Singla

 

Tags: , , ,

Image

Innovative India ! Handy cooler

image

Happy Indian with his innovation
Necessity gives such motivation
Salute ! creativity ; such passion
Poverty friendly such information

Rajni Vijay Singla

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

इंसानियत बनाम हैवानियत

एक नूर से सब जग उपजा कि भले कि मंदे गुरुओ धरम के नाम पे गुमराह क्यूं फिर बंदे ?
क्यं बेदरदो ने ढूंढे मार काट के  वहशी धंधे ?
हैवानियत को रास हड़ताल -हिंसा  व नफरत
इंसानियत को भाये अहिंसा -ममता व समता
मजहब नही सिखाता आपस में बैर रखना
रब की आवाज  है रुह की आवाज
रुहानियत पे कर अमल ओ बंदिआ !
आसमां वाले का यही सदा है अखना
प्यार से जग है जीता जाता
नफरत पल्ले पैंदा कख ना

Rajni Vijay Singla

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , ,

मोहम्मद रफी( मुस्कराता सरगम )

दम भरते जिसके आगे गीत है
करे चाकरी सुर संगीत है
सुर का शंहशाह -मुरीद कौन है वो
आवाज अमर,  सांसे मौन है वो
शोखी हो चाहे अदा हो कोई
रुमानियत रहमत वफा हो पिरोई
हर सांचे में ढल जाता  है वो
अपने गीतों में  आज भी मुस्कराता वो
सुर सरताज मोहम्मद रफ़ी  कहाता वो
सुरे खनक से मन खनक जाता है तू वो
तेरी आवाज के लिए अलफाज कंहा ?
(जो तुझमे) ओरो में वो बात कंहा !

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Link

Tribute to Gandhi ji by Bhavya Singla  ‘ poetry

 

Tags: ,

हो तेरा दिल या मेरा दिल

हो तेरा दिल या मेरा दिल
यूं ही धड़कता रहे
World health day हो
चाहे  हो कोई दिन
ये चहकता महकता रहे
तेरी अदाओ का दीवाना रहे
ये यूं ही जवां मस्ताना रहे
Happy happy healthy heart
Be fit, fine & forever smart

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

खुदा जब दोस्त

खुदा जब दोस्त हर पल Friendship Day
Values & Virtues forever stay

 

Tags:

 
%d bloggers like this: