RSS

Tag Archives: free

Prosperity is Modi

Need of progress and prosperity means Modi Ji need wishes for great victory to make India a golden sparrow again.

Advertisements
 
 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

हाय रुलाया प्याजों ने

Image

यह  कैसी आजादी

महंगाई ने की बर्बादी

प्याज आसमान पे पंहुचा

गरीब ने  अपना पेट  नोचा

अमीर भरे lockers में

गरीब रोटी की ठोकरों में

प्याज सोने के भाव हुआ

पेट भरना हराम हुआ

Blackmailers’ का काम हुआ

वतन फिर बदनाम हुआ

मेहमान न आये घर कोई

गरीब करे बस यही दुआ

रजनी विजय सिंगला

Email: rajnivijaysingla@gmail.com

 
Leave a comment

Posted by on August 14, 2013 in message, poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

मलाला : और चाहिए

Image

विश्व मलाला दिवस

मलाला : और चाहिए

“इंशाल्लाह कितना मासूम चेहरा जैसे किरणों का बसेरा

उम्र छोटी इरादे बड़े  तभी मशालेजीत लिए कारवाँ  पीछे खड़े”

मलाला ने शैतानी इरादों पर मलाल जब किया

सुलगते दरिंदो ने मानवता पर वार तब किया

बेताब रूह-मलाला, आरज़ू रिहाई वतन दकियानूसी ज़ंजीरो से

मौत को पछाड़ा कैसे दुआओं ने कमाल वो किया

सहम गए शिकारी भी, अभिव्यक्ति को मसीहा बना डाला

मिटानी चाही थी एक, पैदा हो गयी कितनी मलाला

नादान थे न-मालूम, मारने वाले से बचाने वाला बड़ा होता है

इंसानियत के पुजारियो संग , अल्लाह खुद खड़ा होता है

रजनी विजय सिंगला

E-mail- rajnivijaysingla@gmail.com

 
Leave a comment

Posted by on November 10, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Image

Gandhian Appeal

gandhian appeal

 
Leave a comment

Posted by on October 2, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

PRIDE OF NATION: Dr. APJ ABDUL KALAM JI

This Poem was written by Rajni Vijay Singla and my son, Bhavya Singla presented it personally to Dr. APJ Abdul Kalam Ji. This was very well appreciated by him and he took away the Poems.

pride of nation

 
Leave a comment

Posted by on September 25, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

गणपति बप्पा मोरेया . .

बड़े भोले है गणपति जी 

इक लड्डू से मन जाते है 

खाके एक लड्डू 

खजाने-अन्न भर जाते है

 गणपति बप्पा मोरेया , मंगल मूर्ति मोरेया !

रजनी विजय सिंगला

 

 

 

 
Leave a comment

Posted by on September 19, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

बधाई बधाई . .

यह बधाई आशीर्वाद के तौर पर मेरे भाइयो के नए शोरूम ” Lovely Marbles”

के उपलक्ष्य पर लिखी और गाई गई है

जैसे गणपति जी ने उनकी इच्छा पूरी की है वैसे ही गणपति जी सब की इच्छा और महत्वकांषा पूरी करे

Image

Image

 
Leave a comment

Posted by on September 19, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

 
%d bloggers like this: