RSS

Tag Archives: GOD

सूरत बनाम सीरत

सूरत चले जवानी तक सीरत चले बाद भी
मोम सा दिल बना ले याद रखे फौलाद भी

Advertisements
 

Tags: , , , , , ,

राजयोग मुबारक योगी तोहे

जब जब निहारूं सांस में अपनी
हो जाये योगी मेरी आत्म
दूर नही बस दूर नही
पास मेरे है मेरा परमात्म
जो मेरे करीब है सबसे
कितनी दूर था मैं उससे
जबसे मिला मैं ही खुद से
अकसर मुलाकात होती रहती उससे
राजयोग हमे मनजीते बनना सिखाता
आत्म का परमात्म से अटूट नाता

Rajni Vijay Singla

 

Tags: , , , , , , , , , , ,

Prosperity is Modi

Need of progress and prosperity means Modi Ji need wishes for great victory to make India a golden sparrow again.

 
 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

शिव महिमा

Image

 
Leave a comment

Posted by on February 7, 2014 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

राम नाम से तो डर

नाम लेता लगाता संग जिस राम का

उस मर्यादापुरषोतम के नाम से तो डर

द्रोपदी की लाज बचाई जिसने

उस अर्जुनसारथी घनशाम से तो डर

इंसान रूप, मगर मारे डंक है तु

संतो की पावन धरा पे, कलंक है तु

कब्र मे पांव तेरे, दिल मे वासना के डेरे

बापू बना फिरता, आस्था के शाप से तो डर

शाम होने को जिंदगी की तेरी

मौत की काली छावं से तो डर

मिटी ना अब तक तेरी मैं मैं

अहंकारी रावण के अंजाम से तो डर

होता कौन तु भक्तों को ज़न्नत देने वाला

ओ पापी ज़रा जहन्नुम के इंतकाम से तो डर

दुहाई देता फिरे किन शुभकर्मन की तु

अब जरा दुष्कर्म के दुष्परिणाम से  तु डर

बहुत चढ़ ली श्रदा की चोटिया तुने

अब जरा वक्त के उतराव से तु डर  

 

रजनी विजय सिंगला

Email: rajnivijaysingla@gmail.com

 

 
Leave a comment

Posted by on September 7, 2013 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

कुकर्मी संत की रासलीला

कहाँ मर्यादा पुर्शोतम राम

कहाँ बापू आसाराम

राम नाम को किया बदनाम

रावन से भे बदतर काम

बलात्कार कर सत्संग करे

आत्म आवाज़ को भंग करे

बलात्कार के बाद नातिन कहे

रहें सहे संस्कार वो भे बहे

चेले चपेटे लाखों में

पट्टी बांधें आँखों पे

पापी को बापू कहे नादान भूलो में

बलात्कारी आहंकारी बापू झूलो में

शिकारी बेबस अकेली शूलों में

कानून करे बुलंद आवाज़

बलात्कार से मुक्त करे समाज

शिकार को नहीं शिकारी को मारे

नारी को नहीं बलात्कारी को मारें

रजनी विजय सिंगला

 
Leave a comment

Posted by on August 26, 2013 in message, poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

kruna deep

Image

 
Leave a comment

Posted by on June 29, 2013 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,