RSS

Tag Archives: killing

बेटियां रहमत रब की

बेटियां रहमत रब की
इनको न जहमत माने
ताउमर रहती अपनी
इनको न पराई जाने
पालना के पंख लगाओ
जी जान से इन्हे पढ़ाओ
बहुत चला ली ऐ ; तूने जमाने
कभी कर शोषण ,कभी दे देे ताने
अब तो कर ले ,तू भी तौबा
रब की नेमत को कर नमन !
कलियो से ही खिलता चमन
बेटियां होती दुआओं जैसी
बरकत की सदाओ जैसी
महकती दिशाओं जैसी
बेटियों से सजा लो आशियाना अपना
साकार करो मासूम अंखियों का सपना
सच्ची यही कंजक पूजा, तप ,नाम जपना

Rajni Vijay Singla

Advertisements
 

Tags: , , , , , , , , , , , , ,

Rajesh Khanna: dis-tribute . . .

 
4 Comments

Posted by on July 25, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

trees versus Girls

Image

Image

 
Leave a comment

Posted by on June 5, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,