RSS

Tag Archives: pani

Prosperity is Modi

Need of progress and prosperity means Modi Ji need wishes for great victory to make India a golden sparrow again.

Advertisements
 
 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

बधाई बधाई . .

यह बधाई आशीर्वाद के तौर पर मेरे भाइयो के नए शोरूम ” Lovely Marbles”

के उपलक्ष्य पर लिखी और गाई गई है

जैसे गणपति जी ने उनकी इच्छा पूरी की है वैसे ही गणपति जी सब की इच्छा और महत्वकांषा पूरी करे

Image

Image

 
Leave a comment

Posted by on September 19, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

कुदरत स्लोगन

प्रदुषण विरुद्ध ऐलाने जंग

भर दे पर्यावरण के रंग 

….

ताजगी की चाह में हम घुटते जा रहे है 

जीवनदायिनी हवा को विषैला बना रहे है  

 
Leave a comment

Posted by on September 17, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

कुदरत

न किसी फरमान , न एहसान की मोहताज होती है

कुदरत तो खुद खजानों से , सजा ताज होती है

आदिकाल से ले अब तक , लगे सुलझाने जिसे

गुत्थियाँ कई है उलझी हुई , वो राज़ होती है

तय किया इसने , अपनी रहमतों-नेमतों का समां

अनुशासन की धुन से सजा साज होती है

कभी नाज़ होती है , कभी हमराज़ होती है

चीरहरण करते हम जब इसका , प्रदुषण बन

सैलाब, जलजला, सुनामी बन नाराज़ होती है

चहकते बड़े पशु पक्षी , महकते बेल बूते बहुत

सावन बसंत बन , जब आगाज़ होती हैं

शर्मीली बड़ी ओढ़े हुए , ओज़ोन की चुनरी यह

न छेड़ो खेंचो चुनरी , वही इसकी लाज होती है

रजनी विजय सिंगला

Email: rajnivijaysingla@gmail.com

 
2 Comments

Posted by on September 16, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

aatambal

aatambal

 
2 Comments

Posted by on September 12, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

erase scars raise stars . .

bhavya 1

Designed by Bhavya Singla and team.

On the eve of World Education Day:

 
2 Comments

Posted by on September 8, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

A Tribute:Mother Teresa Ji

singhap

aaj ka bhisham pitamah

 
Leave a comment

Posted by on August 27, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,