RSS

Tag Archives: paryavaran

vo masoom titli

Image

 
Leave a comment

Posted by on June 15, 2013 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Image

Gandhian Appeal

gandhian appeal

 
Leave a comment

Posted by on October 2, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

PRIDE OF NATION: Dr. APJ ABDUL KALAM JI

This Poem was written by Rajni Vijay Singla and my son, Bhavya Singla presented it personally to Dr. APJ Abdul Kalam Ji. This was very well appreciated by him and he took away the Poems.

pride of nation

 
Leave a comment

Posted by on September 25, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

गणपति बप्पा मोरेया . .

बड़े भोले है गणपति जी 

इक लड्डू से मन जाते है 

खाके एक लड्डू 

खजाने-अन्न भर जाते है

 गणपति बप्पा मोरेया , मंगल मूर्ति मोरेया !

रजनी विजय सिंगला

 

 

 

 
Leave a comment

Posted by on September 19, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

बधाई बधाई . .

यह बधाई आशीर्वाद के तौर पर मेरे भाइयो के नए शोरूम ” Lovely Marbles”

के उपलक्ष्य पर लिखी और गाई गई है

जैसे गणपति जी ने उनकी इच्छा पूरी की है वैसे ही गणपति जी सब की इच्छा और महत्वकांषा पूरी करे

Image

Image

 
Leave a comment

Posted by on September 19, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

कुदरत स्लोगन

प्रदुषण विरुद्ध ऐलाने जंग

भर दे पर्यावरण के रंग 

….

ताजगी की चाह में हम घुटते जा रहे है 

जीवनदायिनी हवा को विषैला बना रहे है  

 
Leave a comment

Posted by on September 17, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

कुदरत

न किसी फरमान , न एहसान की मोहताज होती है

कुदरत तो खुद खजानों से , सजा ताज होती है

आदिकाल से ले अब तक , लगे सुलझाने जिसे

गुत्थियाँ कई है उलझी हुई , वो राज़ होती है

तय किया इसने , अपनी रहमतों-नेमतों का समां

अनुशासन की धुन से सजा साज होती है

कभी नाज़ होती है , कभी हमराज़ होती है

चीरहरण करते हम जब इसका , प्रदुषण बन

सैलाब, जलजला, सुनामी बन नाराज़ होती है

चहकते बड़े पशु पक्षी , महकते बेल बूते बहुत

सावन बसंत बन , जब आगाज़ होती हैं

शर्मीली बड़ी ओढ़े हुए , ओज़ोन की चुनरी यह

न छेड़ो खेंचो चुनरी , वही इसकी लाज होती है

रजनी विजय सिंगला

Email: rajnivijaysingla@gmail.com

 
2 Comments

Posted by on September 16, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

 
Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 507 other followers

%d bloggers like this: