RSS

Tag Archives: WORLD POPULATION DAY

Why trees less than people?

Abadi zayaada jami kum kyu?
Bhukh ki vajah se ashkenami kyu?
Betia bebas aur daabi kyu?
Betio – butoo par hamesha aari chali kyu?
Havaniyat ki aandhi itni tej chali kyu?
Kokh mein masli jaye udhkhil kali kyu?

Rajni Vijay Singla

 

Tags:

world population day

Image

 
3 Comments

Posted by on July 11, 2013 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , ,

कुदरत

न किसी फरमान , न एहसान की मोहताज होती है

कुदरत तो खुद खजानों से , सजा ताज होती है

आदिकाल से ले अब तक , लगे सुलझाने जिसे

गुत्थियाँ कई है उलझी हुई , वो राज़ होती है

तय किया इसने , अपनी रहमतों-नेमतों का समां

अनुशासन की धुन से सजा साज होती है

कभी नाज़ होती है , कभी हमराज़ होती है

चीरहरण करते हम जब इसका , प्रदुषण बन

सैलाब, जलजला, सुनामी बन नाराज़ होती है

चहकते बड़े पशु पक्षी , महकते बेल बूते बहुत

सावन बसंत बन , जब आगाज़ होती हैं

शर्मीली बड़ी ओढ़े हुए , ओज़ोन की चुनरी यह

न छेड़ो खेंचो चुनरी , वही इसकी लाज होती है

रजनी विजय सिंगला

Email: rajnivijaysingla@gmail.com

 
2 Comments

Posted by on September 16, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

One family..one child.. one hand one tree,,, BaLaNce Everything

Image

………..

………..

Effort by: RAJNI VIJAY SINGLA

 
2 Comments

Posted by on July 12, 2012 in poetry

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

 
%d bloggers like this: